जब परदेश से घर लौटा बेटा, मिला माँ का कंकाल

0
308

जब परदेश से घर लौटा बेटा, मिला माँ का कंकाल

अमेरिका में बसे इंजीनियर रितुराज साहनी जब मुंबई में रहने वाली अपनी मां से मिलने पहुंचे तो फ्लैट के अंदर का नजारा देखकर उनके होश उड़ गए. दरअसल अमेरिका से लौटे साहनी फ्लैट में अपनी मां के पास पहुंचे थे. लेकिन बहुत देर तक दरवाजा खटखटाने पर भी अंदर से कोई बाहर नहीं आया.

इस पर साहनी चिंतित हुए और नकली चाबी की मदद से दरवाजा खोला. लेकिन बेडरूम में जाकर देखा तो वहां 63 साल की मां का सिर्फ कंकाल बचा था. पूरा शरीर बुरी तरह सड़ चुका था. महिला का नाम आशा साहनी है. उनके पति केदार साहनी की 2013 में डेथ हो चुकी है. रितुराज परिवार समेत अमेरिका में रहता है.

फ्लैट में मां का कंकाल देखकर  उसके होश उड़ गए. आशा साहनी के बुढ़ापे की एकमात्र आशा ‘उनके इकलौते बेटे’ ने खुद स्वीकार किया कि उसकी मां से आखिरी बातचीत कोई सवा साल पहले बीते साल अप्रैल में हुई थी.

एक साल पहले मां ने ऋुतुराज से कहा था कि बेटा! अब अकेले नहीं रह पाती हूँ। या तो अपने पास अमेरिका बुला लो या फिर मुझे किसी ओल्डएज होम में भेज दो। बेटे ऋतुराज ने आशा साहनी को ढाढस दिया कि मां फिक्र न करे, वह जल्द ही इंडिया आएगा. लेकिन जब वह इंडिया आया तो उसका सामना माँ के कंकाल से हुआ.

ये घटना पिछले साल अगस्त की है. लेकिन ये खबर हर उस व्यक्ति के लिए सबक है. जो अपने बूढ़े माता पिता से दूर रहते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here